Story Horror Hindi

Hindi Horror Story | Story Horror Hindi | Bhoot Ki Kahani

Bhoot ki Kahani Hindi Horror Story Hindi Story Kahaniya Latest updates Story List

Bhoot Ki Kahani or Hindi Horror Story – भूत , प्रेत , आत्मा ये क्या सच में हमारे आस पास रहते हैं ? इसका जवाब पूरी तरह से आज तक किसी के पास नहीं है | क्युकी इनके होने का एहसास किसी को होता है और किसी को नहीं | आपने भी कभी न कभी अपने दोस्तों या अपने किसी जानकार से भूतों के बारे में सुना ही होगा | पक्के सबूत के साथ तो आज तक कोई भी यह बात साबित नहीं कर पाया है | इसलिए हम भी आज कुछ ऐसी ही Hindi Horror Story आपके लिए लेकर आए हैं | जो बेहद डरावनी है | तो चलिए पढ़तें है कुछ Story Horror Hindi

11 बजे की आखरी ट्रेन ( Hindi Horror Story )

एक बार की बात है , अमित नाम का एक लड़का दिल्ली में रहता था | वह 25 साल का था | और उसकी नई नई शादी हुई थी | वह दिल्ली में एक कॉल सेंटर में काम करता था | उसे कई बार घर पहुंचने में बहुत देर हो जाती थी , और वह आखरी ट्रेन पकड़ कर घर पहुंचता था | और एक रात अमित के साथ कुछ ऐसा हुआ कि उसके रोंगटे खड़े हो गए |

उस रात भी अमित को काम की वजह से बहुत देर हो चुकी थी | उसने जैसे तैसे 11:00 बजे की आखिरी ट्रेन पकड़ी | देरी होने की वजह से ट्रेन बहुत ही खाली थी | कुछ लोगों का मानना है कि उस ट्रेन में रात में भी उतनी ही भीड़ रहती है , बस हम इंसानों को दिखाई नहीं देती | अब अमित आराम से ट्रेन में बैठा था | तभी उसका फोन बजा , उसकी बीवी कुसुम डिनर के लिए उसका इंतजार कर रही थी | फिर उधर से कुसुम इंतजार करते हुए अपनी 1 सेल्फी भेजती है |

Horror Story Short

फिर इधर से अमित ने भी थका हुआ मुंह बनाकर अपनी एक सेल्फी भेजी | इस तरह उनकी दोनों की बातें चलती रही | उधर से कुसुम अपनी फोटो भेजती , और अमित अपनी | इस तरह से देर रात का सफर ट्रेन में कट रहा था | तभी अचानक अमित ने सेल्फी कैमरे में देखा कि उसके पीछे एक औरत बैठी है | पर जब वह मुड़ा तो पीछे कोई नहीं था | अमित बहुत डर गया था | उसने  एक बार फिर अपना कैमरा ऑन किया लेकिन वहां कोई नहीं था |

Story Horror Hindi or Hindi Horror Story

Hindi Horror Story
                    Story Horror Hindi

अमित को एक झटका लगता है और उसे अपने कैमरे में एक औरत दिखाई देती है | वह थोड़ी देर बाद फिर गायब हो जाती है | अब अमित को लगने लगा था कि वह उस ट्रेन के डिब्बे में वो अकेला नहीं था | अमित बहुत ज्यादा डर चुका था | वह कैमरे की मदद से उसको देखने की कोशिश कर रहा था | लेकिन वह दिख नहीं रही थी | फिर वह उसी जगह बैठ गया जहां वह पहले बैठा था | और उसके बाद उसने अपना फ्रंट कैमरा ऑन किया ,

और कैमरा ऑन करते ही, उसे अपने पीछे एक चुड़ैल दिखाई दी जो उसे देख कर मुस्कुरा रही थी | और अमित जैसे ही पीछे मुड़ता वह चुड़ैल अमित पर हमला कर देती है | और अमित की वहीं मौत हो जाती है | अब अमित इस दुनिया में नहीं रहा | वह भी अब उस ट्रेन से सफर करने लगा जिसमें रात को भी भीड़ होती है | बस वह भीड़  इंसानों को दिखाई नहीं देती |

उम्मीद है की आपको ये Hindi Horror Story ज़रूर पसंद आई होगी | अगर आपको Bhoot Ki Kahani पढ़ना पसंद है तो हमारी वेबसाइट पे विज़िट करें |

भूतों का बगीचा ( Bhoot Ki Kahani )

एक सवाल जिसका संपूर्ण जवाब किसी के पास नहीं है | और वह सवाल यह है कि इंसान का मौत के बाद क्या होता है ? क्या वाकई में इंसान की मौत के बाद आत्मा को स्वर्ग या नर्क में जाना होता है ?   क्या सच में किसी किसी आत्मा को ना तो स्वर्ग नहीं नर्क जाने को मिलता है ?   क्या वह सच में हमारे साथ इस धरती पर रहते हैं ?   अगर इन सवालों का जवाब (हां) है , तो आज तक इन सब बातों को पूर्ण सहमति क्यों नहीं मिली |

और अगर इन सवालों का जवाब (ना) है तो क्यों कुछ लोगों को इनके होने का एहसास होता है | आज हम आपको कुछ ऐसे ही बेहद डरावनी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं , जिसके बारे में जानकर आप लोग हैरान रह जाएंगे , एक ऐसी जगह जहां भूतों की संख्या एक दो नहीं बल्कि यहां भूतों की पूरी की पूरी बारात होने का दावा किया जाता है |

Hindi Horror Story or Horror Story in hindi

यह जगह मौजूद है उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ शहर में एक छोटे से गांव अलीपुर में | इस गांव के पूर्वी दिशा में बहुत बड़ा अमरूद के पेड़ों का बगीचा है | यह बगीचा एक वक्त पर गांव के लोगों को राहगीरों को भरपूर छाया और मीठे फल देता था | लेकिन आज से 17 साल पहले यहां एक ऐसी घटना घटी जिसने इस सुंदर बगीचे को हमेशा हमेशा के लिए एक ऐसी जगह में तब्दील कर दिया | जहां ना तो अब कोई जाता है और ना ही कोई इस बारे में बात करना चाहता है |

यहां बस अब भूतों और आत्माओं का वास है | वहां के आसपास के लोग  दावा  करते हैं की ,  यहां सूर्य अस्त के बाद कोई नहीं आता जाता | इस घटना की शुरुआत हुई सन 1998 में | जहां बालकिशन नाम के एक व्यक्ति के बेटी की शादी प्रमोद शर्मा से होना तय हुआ | घर में तैयारियां चल रही थी | और उस दिन उसकी बेटी की शादी थी | बारात बालकिशन के घर के पास ही एक स्कूल के पास पहुंच चुकी थी | जहां बारात के आराम करने का बंदोबस्त किया गया था |

Bhutiya kahani or Hindi Horror Story

यहां आराम करने के बाद बारात को कुछ दूरी पर ही बालकिशन के घर जाना था | उन दिनों पक्की सड़के नहीं हुआ करती थी | और बारात के साथ आए गाजे-बाजे वाले और कुछ और लोग एक ट्रॉली ट्रैक्टर पर सवार थे | बारात उस बगीचे की तरफ जाते कच्चे रास्ते पर आगे बढ़ने लगी, और बगीचे में मौजूद एक तालाब के पास से गुजरती कच्ची सड़क तक पहुंची | लेकिन तभी कुछ ऐसा हुआ | जिसका किसी को कुछ पता नहीं था |

ट्रॉली ट्रैक्टर के बड़े बड़े टायर जैसे ही तालाब के किनारे की सड़क तक पहुंचे उसी वक्त वह कच्ची सड़क एक तरफ से धस गई | और वह ट्रॉली ट्रैक्टर उस तालाब में पलट गई | इस घटना में ट्रॉली में बैठे ज्यादातर लोग मारे गए | और कुछ ही देर में खुशी का माहौल मातम में बदल गया | इस दुखद घटना में 12 लोगों की मौत हो गई | मौत और मातम की काली छांव में वह शादी तो हो गई लेकिन डोली के साथ कई अर्थियां भी वापस गई |

Bhoot Ki Kahani or Hindi Horror Story

Story Horror Hindi
                    Bhoot Ki Kahani

उन अर्थियों में मरने वालों का शरीर तो चला गया लेकिन उनकी आत्मा वहीं उस बगीचे में रह गई | और इस बात का लोगों को तब पता चला | जब अक्टूबर महीने की एक रात को अचानक आस-पास के गांव वालों को कहीं दूर से बैंड बाजों और लोगों की हर्षोल्लास से भरी आवाजें सुनाई दी | उस समय गांव में लाइट भी नहीं हुआ करती थी , तो ऐसा तो मुमकिन नहीं है कि कोई साउंड सिस्टम बज रहा हो | उस बात का पता लगाने के लिए एक व्यक्ति उन आवाजों की दिशा में आगे बढ़ने लगा |

और देखते ही देखते वह उसी अमरूद के बगीचे में पहुंच गया जहां वह घटना घटी थी | और वहां जो उसने देखा वह देखकर वह हक्का-बक्का रह गया | उस बगीचे में बहुत सारे लोग बैंड बाजा बजाते हुए और नाचते गाते जा रहे थे | लेकिन उन लोगों के चेहरे पर खुशी की जगह दुख के भाव थे | वह आदमी अब तक समझ चुका था कि वह जो देख रहा है वह कोई मामूली घटना नहीं है | वह समझ चुका था कि यह उन्हीं लोगों का भूत है | Hindi Horror Story – Bhoot ki kahani

जिनकी कुछ समय पहले ही इसी बगीचे में मौत हो गई थी | इस भयानक सीन को देखकर वो आदमी वहां से भाग गया | लेकिन फिर भी बैंड बाजे की आवाज कम नहीं हुई | उस आदमी को ऐसा लग रहा था कि भूतों की वह बारात अभी भी उसके पीछे-पीछे आ रही है | क्योंकि काफी दूर आ जाने के बावजूद भी वह आवाजें साफ-साफ सुनाई दे रही थी | अगले दिन सुबह उसने गांव वालों को अपनी आपबीती बताई |

सुनने वालों को भी उसकी बातों पर पूरी तरह से विश्वास नहीं हुआ | और अगले दिन सभी लोगों ने एक साथ उस बगीचे में जाने का फैसला किया | अगले दिन बगीचे में पहुंच कर गांव वालों ने देखा कि उस बगीचे में तालाब के पास कीचड़ से सने बहुत सारे पैरों के निशान थे | जबकि रात में कोई भी उस तालाब के आसपास नहीं जाता , तो फिर पैरों के निशान आए कहां से | यह देखकर लोगों को विश्वास हो गया कि वह आदमी सच बोल रहा था |

Bhutiya Kahani (Horror Story in Hindi)

लेकिन वह आदमी ज्यादा दिन जीवित नहीं रहा | उस घटना के बाद उस आदमी का मानसिक संतुलन ठीक नहीं रहा | उसे हर रात वही बैंड बाजे की आवाज सुनाई देती थी | और रात के समय अचानक वह आदमी उस बगीचे की तरह भागने लगता था | गांव के सारे लोग समझ चुके थे कि यह उन्हीं लोगों की आत्मा है जो लोग उस बारात में मरे थे | और तभी से इस बगीचे में ना जाने की हिदायत सब को दी जाती है |

लेकिन फिर भी पिछले 17 सालों में इस बगीचे ने कई लोगों को अपना शिकार बनाया है | गांव के लोगों का दावा है कि जो भी उन आवाजों का पीछा करते हुए रात के समय उस बगीचे की तरफ जाता है | वह कभी भी पहले की तरह नहीं रहता | या तो वह अपना दिमागी संतुलन खो चुका होता है | या फिर प्रेत आत्माओं की गिरफ्त में आ जाता है | आज भी यहां के लोगों की रातें डर के काले साए में गुज़रती है |

Best Hindi Horror Story

आशा करता हूँ की आपको ये Story Horror Hindi ज़रूर पसंद आई होगी | और अगर आप Bhoot ki Kahani पढ़ने में दिलचस्पी रखते हैं | तो हमारी वेबसाइट पर विज़िट करें

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *