Hindi Moral Story | 5 Best Moral Story in Hindi for kids

Hindi moral story Hindi Story Hindi Story for Kids Kahaniya Moral story in hindi Motivational Story Story List

Hindi Moral Story or Moral Story in Hindi for kids and Adult – दोस्तों Hindi moral story or Moral story in hindi को सुनने की बात ही अलग होती है | क्योंकि Hindi moral story से हम अपनी जिंदगी में कुछ सुधार ला सकते हैं | इसलिए मैं आज आपको बहुत ही खास moral story in hindi सुनाने वाला हूं | आशा करता हूं कि आपको यह Hindi moral story for kids अच्छी लगे |

जैसे को तैसा (Best Hindi Moral Story in Hindi)

Hindi moral story for kids

एक बार की बात है एक कक्षा में बहुत सारे बच्चे पढ़ते थे | उस कक्षा में राजू नाम का एक लड़का था | वह बहुत ही बुद्धिमान था, उसकी बुद्धि के आगे टीचरों की भी नहीं चलती थी | इसकी वजह से कुछ बच्चे उससे जलते भी थे | वह हमेशा राजू को मुसीबत में फंसाने की कोशिश करते रहते थे|

उस कक्षा में दीपक नाम का लड़का पढ़ता था | वह अपने आप को बहुत बुद्धिमानी मानता था उसे इस बात का बहुत घमंड भी था और राजू को तो अपने आगे वह कुछ समझता ही नहीं था, लेकिन अपने आप ही मानने से कुछ नहीं होता |

उस क्लास में सबसे ज्यादा बुद्धिमान तो राजू को ही मानते थे, सब बल्कि पूरे स्कूल में राजू को सब बुद्धिमान मानते थे | क्लास टीचर भी राजू की बात मानते थे और दीपक की तो कोई सुनता ही नहीं था |

अगर दीपक का बस चलता तो वह उसे स्कूल से निकलवा देता वह उससे इतना जलता था | 1 दिन दीपक ने राजू को मूर्ख साबित करने के लिए बहुत सोच विचार कर | कुछ मुश्किल सवाल सोच लिए उसे भरोसा था कि राजू उसके प्रश्नों को सुनकर डर जाएगा और वह कितनी भी कोशिश कर ले वह इस सवाल का जवाब दे नहीं पाएगा |

Story with moral in hindi

फिर सारे टीचर और पूरा स्कूल मान जाएगा कि राजू सबसे ज्यादा बुद्धिमान नहीं है और दीपक के आगे राजू कुछ भी नहीं है | फिर एक दिन दीपक टीचर के पास गया और बोला आप सब राजू को बहुत बुद्धिमान मानते हो आप सब उसकी लंबी चौड़ी बातों में आकर धोखा खा जाते हो |

मैं चाहता हूं कि आप मेरे तीन सवाल का जवाब उससे पूछे ताकि उसके दिमाग की गहराई नापी जा सके | दीपक के अनुरोध करने के बाद टीचर उनकी बात मान गए और राजू को कहा कि दीपक तुमसे कुछ सवाल पूछना चाहता है क्या तुम इसके सवाल का जवाब दे पाओगे |

moral story in hindi
moral story in hindi

राजू बोला हां जरूर दूंगा बड़ी खुशी से दूंगा तो दीपक ने राजू से पूछा पहला –  सवाल कि धरती का केंद्र कहां है राजू बाहर गया वहां से कुछ लकड़ी उठाकर लेकर आया और जमीन के बीच गाड़ दी और बोला यही जगह चारों ओर से दुनिया के बीचो-बीच पड़ता है |

अगर दीपक को विश्वास नहीं है तो वह एक स्केल लेकर आए और नाप ले फिर दीपक ने | दूसरा सवाल पूछा कि आसमान में कितने तारे हैं राजू ने बोला तुम्हारे सर पर कितने बाल हैं उतना ही तारे आसमान में है अगर विश्वास नहीं है तो अपने बाल गिर लो और मुझे गलत साबित करो |

अब दीपक ने तीसरा सवाल पूछा दुनिया की आबादी कितनी है तो राजू ने कहा कि दुनिया की आबादी पल-पल घटती बढ़ती रहती है क्योंकि हर वक्त लोगों का जीना मरना चलता रहता है ,अगर दुनिया के सारे लोगों को इकट्ठा किया जाए तो ही गिन के बताया जा सकता है सॉरी टीचर तो राजू की बात से संतुष्ट हो गए लेकिन दीपक नहीं हुआ और वह बोला या उल्टे सीधे जवाब दे रहा है तो राजू ने बोला ऐसे सवालों के ऐसे ही जवाब होते हैं पहले मेरे जवाब को गलत साबित करो तब आकर बात करना | दीपक शर्मिंदा हो गया

शिक्षा (Moral Story in hindi) – इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि जैसे को तैसा जवाब देना चाहिए

दोस्तों हमें इस Hindi moral Story से यह शिक्षा मिलती है कि हमें ज्यादा घमंड नहीं करना चाहिए ना ही किसी से जलना चाहिए | यह बहुत ही गलत बात होती है |

दो मटके (Story with moral in hindi)

एक बार दो मटके थे | एक मटका मिट्टी का बना था और दूसरा पीतल का दोनों तालाब के किनारे रखे हुए थे | उसी समय तालाब में बाढ़ आ गई बहाव में दोनों मटके बहते चले गए | बहुत समय तक मिट्टी वाले मटके ने अपने आपको पीतल वाले मटके से बहुत दूरी बनाई रखी | पीतल वाले मटके ने बोला तुम डरो मत मैं तुम्हें धक्का नहीं लगाऊंगा |

moral story in hindi

For hindi motivational story click here,  For hindi story list click here

मिट्टी वाले मटके ने जवाब दिया माना तुम जानबूझकर मुझे धक्का नहीं लगाओगे , लेकिन बहाव की वजह से हम दोनों टकराएंगे जरूर और अगर ऐसा हुआ तो तुम्हारे बचाने पर भी मैं तुम्हारे धक्कों से बच नहीं पाऊंगा और मेरी टुकड़े-टुकड़े हो जाएंगे इसीलिए अच्छा है कि हम दोनों अलग अलग ही रहे |

शिक्षा (Hindi Moral Story)- जिससे तुम्हारा नुकसान हो उसे दूर ही रहना चाहिए फिर चाहे उस समय तुम्हारा वह दोस्त ही क्यों ना हो |

दोस्तों हमें इस Moral Story in Hindi से भी बहुत अच्छी सीख मिलती है | हमें उनसे दूर रहना चाहिए जिससे हमें नुकसान हो सकता है, इसी में हमारी भलाई है

2000 का नोट (Moral Story in Hindi for kids)

moral story - 2000 notes

मनीष अक्सर अपने माता पिता से पूछता था की दुनिया की सबसे कीमती चीज क्या है | कई दिनों के बाद पिताजी ने मनीष से कहा चलो आज एक सेमिनार में तुम्हें तुम्हारे सवाल का जवाब मिल जाएगा | मनीष तुरंत ही पिता के साथ चल दिया सेमिनार में एक आदमी ने 2000 रुपए का नोट लहराते हुए अपनी बात शुरू की | आदमी ने हॉल में बैठे सैकड़ों लोगों से पूछा कोई यह 2000 का नोट लेना चाहता है |

अब लोगों ने हाथ उठाना शुरू किया उसने नोट को देने से पहले लोगों से कहा कि मैं इस नोट के साथ कुछ करना चाहता हूं | फिर उसने नोट को अपनी मुट्ठी में लेकर कई जगह से तोड़ मोड़ दिया और फिर उसने पूछा इस सेमिनार में अभी भी कोई है जो इस नोट को लेना चाहता है |

अभी भी बहुत से लोगों ने हाथ उठा दिया | उस आदमी ने फिर कहा अच्छा नोट को नीचे गिरा कर अपने पैरों से कुचल दूं तो फिर भी क्या आप एस 2000 के नोट को लेना चाहोगे |

उस आदमी ने नोट को फिर कुचल दिया और नोट बिल्कुल गंदा हो गया था उस आदमी ने फिर पूछा क्या कोई इस नोट को अब लेना चाहता है | कई लोगों ने फिर से हाथ उठा दिया फिर उसने सभी लोगों से कहा दोस्तों आज आपने बहुत जरूरी सबक सीखा है |

मैंने इस नोट के साथ इतना कुछ किया फिर भी आप इस नोट को लेना चाहते हैं क्योंकि यह सब होने के बावजूद भी नोट की कीमत नहीं कटी इसका मूल्य अभी भी ₹2000 ही है|

Story with moral in hindi

इसी तरह से जीवन में हम कई बार गिरते उठते हैं | कई बार हमारे द्वारा लिए गए फैसले हमें गिरा देते हैं हमें ऐसा लगने लगता है कि जिंदगी से हमारे कोई मूल्य नहीं है | लेकिन एक बात को समझ लीजिए दोस्तों जीवन में आपके साथ चाहे कुछ भी हुआ हो या भविष्य में आपके साथ कुछ भी होने वाला हो आपका मूल्य जिंदगी भर मूल्य कम नहीं होता है , आप का मूल्य वही रहता है |

दोस्तों हमें इस Hindi moral Story से भी बहुत अच्छी सीख सीखने को मिलती है | हमें सीखने को मिलता है कि हमें कभी अपने आप को अमूल्य नहीं समझना चाहिए| और जिंदगी में हमेशा आगे बढ़ने की सोचनी चाहिए|

चींटी और कोयल

एक समय की बात है पेड़ पर से एक चींटी तालाब में गिर गई | एक कोयल ने उसे पानी में गिरते देखा, चींटी अपने आप को बचाने के लिए अपने हाथ-पैर मार रही थी | लेकिन पानी का बहुत तेज था, इसलिए वह अपने आप को संभाल नहीं पा रही थी | तभी कोयल ने एक पत्ते को तोड़ा और पत्ते को सीधा चींटी के पास पानी में फेंक दिया | चींटी तुरंत पत्ते के ऊपर आ गई और चींटी ने बड़े प्यार से कोयल की तरफ देखा और उसका शुक्रिया अदा किया|

वह बहुत थक गई थी कुछ हफ्ते बाद की बात है एक आदमी जंगल में आया उसने कुछ दाने जमीन पर फेंके और उस पर अपना जाल बिछा दिया और वह चुपचाप किसी पक्षी के जाल में फंसने का इंतजार करने लगा |

वह चींटी जो वहीं कहीं से गुजर रही थी उसने जब वह सारी तैयारी देखी तो क्या देखती है ,वही कोयल जिसने उसकी जान बचाई थी उड़कर उसी जाल में फंसने के लिए धीरे-धीरे नीचे उतर रही थी चींटी एकदम से आगे बढ़ी और उस आदमी के पैर पर चढ़कर बहुत बुरी तरह उसे काट लिया |

chinti - kahaniya

और उस आदमी के मुंह से चीख निकल गई हाय मेरा पैर | कोयल एकदम देखा कि शोर किधर से आ रहा है और उस आदमी को देखते ही , वह सब कुछ समझ गई और वह दूसरी तरफ उड़ने लगी और उसकी जान बच गई और चींटी अपने काम पर चली गई|

शिक्षा– कर भला तो हो भला

Moral Story in hindi for kids

दोस्तों यह भी एक जबरदस्त Short Moral Hindi Story in hindi थी | इससे हमें यह सीखने को मिलता है कि अगर हम किसी की मदद करते हैं तो वह भी आगे जाकर हमारी मदद करता है| इसलिए हमें सब की मदद करनी चाहिए |

मेहनत का फल (Hindi Moral Story – Moral Story Hindi)

दो दोस्त थे राम और श्याम दोनों बेरोजगार थे | उन्होंने अपने गुरु जी से अपनी परेशानी बताई | गुरु जी उन्हें कुछ रुपए दीजिए जिससे वे कुछ काम धंधा शुरू कर सकें | गुरुजी ने दोनों दोस्तों को एक- एक हजार रुपए दिए साथ यह बोला कि 1 साल के अंदर तुम्हें इन पैसों को लौटाना होगा | दोनों दोस्तों ने गुरुजी की बात मान ली और पैसे लेकर चल पड़े | रास्ते में राम ने कहा हमें इन पैसों से कुछ अच्छा काम शुरू करना चाहिए |

परंतु श्याम ने कहा नहीं हम इन पैसों से कुछ अच्छे स्थानों पर घूमने जाएंगे मस्ती करेंगे | 1 साल बीत जाने के बाद दोनों दोस्त गुरुजी के पास पहुंचे | गुरुजी ने पहले श्याम से पूछा तुमने रुपयों का क्या किया क्या लौटाने के लिए लाए हो | श्याम ने मुंह लटका कर जवाब दिया गुरुजी किसी ने धोखा देकर वह रुपए ठग लिए | फिर उन्होंने राम से पूछा तुम भी खाली हाथ आए हो क्या |

mehnat ka phal

राम ने मुस्कुराकर जवाब दिया नहीं गुरुजी यह लीजिए आपके ₹1000 और अतिरिक्त ₹1000 रुपए | गुरुजी ने पूछा तुम इतने रुपए कैसे कमा लाए क्या तुमने किसी को धोखा दिया है | राम ने बोला नहीं मैंने सूझबूझ से पैसे कमाए हैं |

एक किसान को परेशान देख कर मैंने उससे सारे फल खरीद लिए | फिर उन्हें शहर में जाकर बेच दिया और वह किसान प्रतिदिन मुझे फल ला कर देता और मैं उन्हें बेच देता |

कुछ दिनों बाद मैंने शहर में दुकान ले ली और फलों का व्यापार खोल दिया | गुरुजी राम से बहुत खुश हुए और उन्हें शाम को समझाया कि अगर तुम भी मेहनत से काम लेते तो तुम भी आज पैसे कमा पाते |

Hindi Moral Story | Moral Story in Hindi

शिक्षा- समय का महत्व समझो सफलता तुम्हारे कदम चूमेगी |

दोस्तों हमें इस कहानी से बहुत ही बड़ी सीख मिलती है | हमें काम चोरी नहीं करनी चाहिए हमें मेहनत से काम करना चाहिए | मेहनत का फल हमेशा मीठा होता है |

आदत (Best Hindi Story)

एक बार की बात है एक आदमी था, उसकी एक आदत थी वह हर उस आदमी को नमस्ते करता था , जो उसे रास्ते में मिलते थे | लेकिन एक ऐसा भी आदमी था जो उसके नमस्कार करने पर उसे गाली देता था |

एक दिन जो आदमी नमस्कार करता था, उसके दोस्त ने उससे पूछा कि तु उसे क्यों नमस्कार करता है जब वह तुझे गाली देता है | तो उसने जवाब दिया कि जब वह मेरे लिए अपनी बुरी आदत नहीं छोड़ सकता तो मैं उसके लिए अपनी अच्छी आदत कैसे छोड़ दूं |

Moral Story in hindi for kids

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको यह Hindi Moral Story बहुत ही ज्यादा अच्छी लगी होगी | और इससे आपको एक बहुत ही अच्छी चीज़ सीखने को मिली होगी की हमें कभी किसी के लिए अपनी अच्छी आदत है नहीं बदलनी चाहिए | अगर सामने वाला हमारे साथ बुरा व्यवहार कर रहा है, इसका मतलब यह नहीं कि हम भी उसके साथ बुरा व्यवहार करें |

दोस्तों आपको यह सभी Moral Story in Hindi पढ़कर बहुत मजा आया होगा और अच्छा भी लगा होगा | आपने हर एक कहानी से एक अच्छी चीज सीखी होगी अगर आप इसे अपनी जिंदगी में अप्लाई कर लेते हैं तो आपकी जिंदगी सफल हो जाएगी

धन्यवाद

Related Story of Moral story in hindi or Hindi Moral Story

Hindi Story

Akbar Biral Hindi Story

Tenali Rama Hindi Story or Kahaniya

Hindi Story for kids