Hindi Motivational short moral story

Motivational Story in Hindi | Best Hindi Motivational Story

Hindi Story Hindi Story for Kids Kahaniya Latest updates Motivational Story Story List

Hindi Motivational story – दोस्तों Motivational Story पढ़ना स्टूडेंट्स के लिए, क्या जिंदगी में जो कुछ कर दिखाना चाहते हैं उनके लिए बहुत ही फायदेमंद होती है | क्योंकि मोटिवेशनल स्टोरी हमें आगे बढ़ने की और प्रेरणा देती है | आज मैं भी आपको कुछ मोटिवेशनल स्टोरी इस ब्लॉग के जरिए शेयर करना चाहता हूं |

यह मोटिवेशनल स्टोरी बहुत ही ज्यादा अच्छी है, आशा करता हूं कि आपको यह Motivational Story In Hindi बहुत ज्यादा पसंद आएंगी | यह motivational story students के लिए ज्यादा फायदेमंद रहेगी |

1.  संतुष्टि (Motivational Story in hindi for Student)

Hindi motivational story

एक गांव में एक मूर्तिकार रहा करता था | काफी खूबसूरत मूर्ति बनाया करता था और इस काम से वह अच्छा कमा लेता था | उसे एक बेटा हुआ उस बच्चे ने बचपन से ही मूर्तियां बनानी शुरू कर दी | बेटा भी बहुत अच्छी मूर्तियां बनाया करता था और बाप अपने बेटे की कामयाबी पर खुश होता था |

हर बार बेटे की मूर्तियों में कोई ना कोई कमी निकाल दिया करता था वह कहते थे बहुत अच्छा किया है, लेकिन अगली बार इस कमी को दूर करने की कोशिश करना बेटा भी कोई शिकायत नहीं करता था अपने बाप की सलाह पर अमल करते हुए मूर्तियों को और बेहतर करता रहा | इस लगातार सुधार की वजह से बेटे की मूर्तियां बाप से भी अच्छी बनने लगी |

और ऐसा टाइम भी आ गया लोग बेटे की मूर्तियों को अच्छा पैसा देकर खरीदने लगे जबकि बाप की मूर्तियां उसकी पहली वाली कीमत पर ही बिकती रही | बाप अभी बेटे की मूर्तियों में कमियां निकाल ही दिया करता था | लेकिन बेटे को अब यह अच्छा नहीं लगती थी, फिर भी बिना मन के उन कमियों को मानता था |

लेकिन फिर भी अपनी मूर्तियों में सुधार कर ही देता था एक टाइम ऐसा भी आया जब बेटे की सब्र जवाब दे दिया बाप जब कमियां निकाल रहा था तब बेटे ने कहा आप ऐसे कहते हैं जैसे आप बहुत बड़े मूर्तिकार हैं, और आपको इतनी ही समझ होती तो आप की मूर्तियां इतनी कम कीमत में नहीं बिकती | मुझे नहीं लगता कि आपकी सलाह लेने की मुझे जरूरत है, मेरी मूर्तियां पर्फेक्ट है |

Hindi Motivational Story | Motivational Story in Hindi

बाप ने अपने बेटे की मूर्तियों में कमियां निकालना और सलाह देना बंद कर दिया | कुछ महीने तो वह लड़का खुश रहा फिर उसने नोटिस कि लोग उसकी मूर्तियों की उतनी तारीफ नहीं करते जितनी पहले क्या करते थे, और उसकी मूर्तियों के दाम भी बढ़ना बंद हो गए |

शुरू में तो बेटे को कुछ समझ में नहीं आया लेकिन फिर वह अपने बाप के पास गया और उसे इस समस्या के बारे में बताया बाप ने बेटे को बहुत शांति से सुना जैसे कि उसे पहले से पता था कि, एक दिन ऐसा भी आएगा | बेटे ने भी इस बात को नोटिस किया और पूछा कि क्या आप जानते थे कि ऐसा होने वाला है

motivational story hindi

Best motivational story in hindi for success.

बाप ने कहा हां क्योंकि आज से कई साल पहले मैं भी इस हालात से टकराया था, बेटे ने सवाल किया तो फिर आपने मुझे समझाया क्यों नहीं | बाप ने जवाब दिया क्योंकि तुम समझना नहीं चाहते थे, मैं जानता हूं कि तुम्हारे इतनी अच्छी मूर्तियां मैं नहीं बनाता | यह भी हो सकता है कि मूर्तियों के बारे में मेरी सलाह गलत है लेकिन ऐसा भी नहीं है कि मेरी सलाह की वजह से तुम्हारी मूर्ति बेहतर बनी हो,

लेकिन जब मैं तुम्हारी मूर्तियों में कमियां दिखाया करता था तब तो अपने बनाई मूर्तियों से संतुष्ट नहीं होते थे | तुम खुद को बेहतर करने की कोशिश करते थे और वही बेहतर करने की कोशिश तुम्हारी कामयाबी का कारण था |

लेकिन जिस दिन तुम अपने काम से संतुष्ट (सेटिस्फाई) हो गए और तुमने यह भी मान लिया कि इसमें और बेहतर होने की गुंजाइश नहीं है | तुम्हारी बेहतर बनाने की कला भी रुक गई, यही कारण है कि अब तुम्हारी मूर्तियों की कोई तारीफ नहीं करता | बेटा थोड़ी देर चुप रहा फिर उसने सवाल किया तो पापा मुझे क्या करना चाहिए |

पिता ने एक लाइन में जवाब दिया अनसेटिस्फाई होना सीख लो मान लो कि तुम्हारे अंदर बेहतर होने की गुंजाइश है यही एक बात तुम्हें हमेशा आगे बढ़ने के लिए इंस्पायर करती रहेगी तुम्हें हमेशा बेहतर बनाते रहेगी |

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको यह Hindi Motivational Story पसंद आई होगी |

2. दो जलपरियां (Best Short Story in Hindi For Success.)

jalpari Hindi motivational story

हिमाचल प्रदेश में बहने वाले बयास नदी में बहुत सारी मछलियां रहती थी | उसी नदी में मेनका और उर्वशी नाम की दो जलपरियां रहती थी | वे दोनों बहुत अच्छी मित्र थी | जहां मेनका का स्वभाव बहुत क्रूर था वही उर्वशी बहुत शांत स्वभाव की थी | एक समय नदी में बहुत प्रकार के जलीय जीव रहने लगे जो मछलियों को बहुत परेशान करते थे |

इसलिए सभी मछलियों ने यह निर्णय लिया नदी की सुरक्षा और सभी फैसलों के लिए उन्हें एक प्राणी की जरूरत है नदी में इतनी प्रकार के जीव रहने लगे हैं कि हमारे रहने के लिए जगह ही नहीं बची |

एक ने कहा लेकिन बहन रहने के लिए जीवित बचना भी तो जरूरी है,  हां तुम सही कह रही हो यह सांप और केकड़े तो हमें इस तरह मार कर खाते हैं जैसे, हमने सिर्फ इनका भोजन बनने के लिए जन्म लिया, मुझे लगता है हमें मेनका उर्वशी में से किसी एक को अपना रानी बना लेना चाहिए |

हमारी और नदी की सुरक्षा के लिए सही सुझाव देती रहेंगी हमें उनसे बात करनी चाहिए | सारी मछली जल परियों के पास जा ही रही थी कि तभी उन्हें उर्वशी दूर से आते हुए देख लेती है, उर्वशी ने बोला अरे मेनका देखो यह मछलियां कितनी तेजी से हमारी तरफ आ रहे हैं, मुझे लगता है जरूर कोई बड़ी मुसीबत है |

यह सब परेशान भी लग रही है | तभी और मछलियों में से एक मछली ने बोला तुमने सही समझा हम सब बहुत परेशान हैं हमारी नदियां बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है यहां पर बहुत से केकड़ी और सांप रहने लगे हैं बहुत परेशान करते हैं इसलिए हम चाहते हैं कि आप दोनों में से कोई एक हमारी रानी बन जाए |

मेनका बोली मैं इस नदी में बहुत समय से रहती हूं,  इसलिए रानी मुझे ही बनना चाहिए नहीं | उर्वशी बोली –  नही रानी मुझे बनना चाहिए क्योंकि तुम्हें फैसले लेने की समझ नहीं आया मैं फैसले थोड़ा सोच कर लेती हूं और तुम फैसले जल्दबाजी में लेती हो जिसका परिणाम तो है बाद में मिलता है |

Hindi Short Motivational Story for Students

मछलियां बोली अरे अरे आप दोनों शांत हो जाइए नदी की रानी कौन बनेगी, इसका फैसला चुनाव से कर लेंगे आप दोनों में से जिसके पास ज्यादा बहुमत होंगे वही नदी की रानी बनेगी | आज से 3 दिन बाद चुनाव होगा आप दोनो प्रचार के लिए काफी समय है | अगले दिन सभी मछलियों की सभा बुलाई जाती है दोनों जल परिया चुनाव का प्रचार करती हैं  |

motivational story in hindi

मेनका बोली – मैं इस नदी की सुरक्षा के लिए विशेष कदम उठाएगी, तुम सबके साथ मिलकर नदी को शैतानों से को भगा दूंगी, मैं ही करूंगी विकास, मैं इस नदी की सभी मछलियों को अच्छी बातें सिखा दूंगी, मैं सभी मछलियों को मुफ्त में दाना खिलाऊंगी, मैं अन्य जीवो को मार भगा दूंगी प्रचार खत्म होता है, और चुनाव का दिन आ जाता है |

Best motivational story in hindi | Hindi motivational story

सभी मछलियों ने बोला मुझे लगता है मेनका कोई हमारी रानी होनी चाहिए मेनका हमें दाना खिलाएगी इसलिए रानी भी मेनका ही बनेगी जो हमारे दुश्मनों को मार भगाए |

नदी की रानी कल आएगी नतीजा सामने है मेनका ही इस नदी की रानी बनेगी उर्वशी चुनाव हार जाती है मछलियां लालच में आकर मेनका को रानी बना देती है मेनका कुछ दिन तक रानी साबित होती है

मछलियां अपने निर्णय से बहुत खुश होती है , लेकिन एक दिन एक केकड़ा मेनका के पास आता है आप इस नदी की रानी हो और मुझे यहां रहने के लिए आपकी आज्ञा चाहिए तुम यहां रह सकते हो तुम्हें मुझसे वादा करना होगा तुम किसी को परेशान नहीं करोगे ठीक है | केकड़ा बोला पर मैं खाऊंगा क्या, मेनका बोली वह सब मैं नहीं जानती तुम्हें जो खाना है खाओ पर मछली को कोई नुकसान नहीं होना चाहिए |

Hindi Short Motivational Story for Success.

केकड़ा बोला – मेरे पास एक तरकीब है मैं आपको रोज मछली मार कर खिलाऊंगा, अगर आप मुझे मछली खाने की आज्ञा दे तो | यह सब उर्वशी सुन लेती है और अन्य मछलियों को खबर देती है यह सब सुनकर मछलियां भयभीत हो जाती है और सोचती हैं हमारे साथ विश्वासघात हुआ है |

यह महारानी ने बिल्कुल भी ठीक नहीं किया पर, अब तो कुछ नहीं हो सकता अगले चुनाव तक तो मेनका का ही राज चलेगा क्या कुछ नहीं हो सकता | मछलियां मेनका के पास जाती है और बोलती हैं महारानी आपने क्या किया केकड़े को रहने की आज्ञा क्यों दी, वह केकड़ा हमें दोबारा परेशान करेगा और आपको इससे क्या फर्क पड़ेगा आप तो खुद मछलियों को खाने की सपने देख रही है |

For more Hindi Stories – Click here

मेनका बोली – तुम सब यहां से जाओ इस नदी की रानी में हूं इसलिए मेरा फैसला तुम्हें मानना ही होगा सही , मछलियां दुखी होकर वहां से चली जाती है | केकड़ा मछलियों को खाने लगता है सही मछलियों को अपने निर्णय पर बहुत पछतावा होता है |

jalpari

एक दिन मेनका मछुआरों के जाल में फंस जाती है |  चिल्लाती है बचाओ कोई मुझे इस जाल से बाहर निकालो सभी मछलियां मेनका को जाल में फंसा देखकर बहुत खुश होती है | कोई भी उसकी सहायता नहीं करता तभी उर्वशी वहां आती है और बोलती है परेशान ना हो, तुम्हें अभी इस जाल से बाहर निकालती हो |

सब मछलियां बोलती  हैं – उर्वशी बहन आप इसे ना ही बचाए तो अच्छा है,  हां अगर इसे मछुआरा ले जाए तो मजा ही आ जाएगा |

उर्वशी बोलती है – नहीं अगर हम मेनका को नहीं बचाएंगे तो उसके और हमारे व्यवहार में क्या अंतर रह जाएगा | हमें उसकी सहायता करनी होगी | दुखी मैनका बोलती है – हां मुझे बचा लो मुझे अपने किए पर बहुत पछतावा है और हां मैं चाहती हूं रानी उर्वशी को ही बना दिया जाए |

उर्वशी जाल को काट कर मेनका को बचा लेती है और सभी मछलियां दोनों जल परियों के साथ मिलकर उस केकड़े को भी नदी से बाहर निकाल देती है | इस तरह मछलियों को समझ आता है कि कभी लालच में आकर कोई फैसला नहीं लेना चाहिए

तो बच्चों इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हमें हर फैसला सोच समझकर ही करना चाहिए और कभी किसी का भरोसा नहीं तोड़ना चाहिए |

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको यह दोनों Motivational Story in Hindi or Hindi Motivational Story पसंद आई होगी | और इससे आपको बहुत अच्छी सीख मिली होगी |

1 thought on “Motivational Story in Hindi | Best Hindi Motivational Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *